Monday, February 22, 2016

वही प्रेम है !

जो बेवकूफियां करने की आजादी दे,
और बेवकूफियां सहने का धैर्य,
वही प्रेम है ! 
                                उन्माद न हो,तिरस्कार न हो ,
                                 बस एक भावपूर्ण समर्पण हो, 
                                प्रेम वही है !
हो लाख शिकायत मन में पर
जब दोषारोपण सम्भव न हो,
वही प्रेम है !
                                खुद्दारी आहत हो लेकिन,
                                 आतुर मन करे प्रणय निवेदन,
                                  वही प्रेम है!
विचलित मन, अशांत मस्तिष्क को,
जब याद किसी की सुकून पहुंचा दे,
प्रेम वही है !
                                                            --सौरभ 

No comments: