Tuesday, July 9, 2013

डर


और... इस ऑफिस की सबसे “सशक्त महिला” का ख़िताब जाता है ,,,,श्रीमती शिवानी को ! तालियों की आवाज से गूंज उठा पूरा सभागार.....पार्टी ख़त्म होते ही, शिवानी पार्किंग से अपनी कार निकालने पहुंची....अँधेरे में दो साये देखकर अन्दर तक कांप गयी थी वो.....तुरंत उसने महेश को मेसेज किया, “बहुत डर लग रहा है !” और काल करने लगी...घंटी कब से बज रही थी, महेश ने फोन पिक अप नहीं किया...तो भी वो जानबूझकर बडबडाने लगी.....(मानो बात कर रही हो) ! धीरे धीरे  दोनो  साये अपने आप गायब होते गए...!
घर पहुँचते ही महेश ने पूछा, क्या हुआ, तुम्हें ?  ठीक तो हो न ! तुम्हें आज ही सशक्त महिला का ख़िताब मिला, और साथ ही मैसेज भी कि डर रही हो तुम !
शिवानी ने हँसते हुए, कहा डर तो सब को लगता है......बस उस डर से डरना नहीं चाहिए....

हम जैसों की ताकत तो, अपनों का प्यार और उनका भरोसा ही होता है...” 

No comments: