Saturday, April 27, 2013

मुक्त कर दो !

मुक्त कर दो ! 
तुम मुझे उम्मीद से, 
विश्वास से, 
मुक्त कर दो ! 

मुक्त कर दो !
तुम मुझे वरदान से, 
अभिशाप से, 
मुक्त कर दो !

मुक्त कर दो ! 
तुम मुझे तारीफ से, 
आलोचना से, 
मुक्त कर दो! 

मुक्त कर दो ! 
तुम मुझे संबंधों के, 
व्यापार से ,,
मुक्त कर दो ! 

मुक्त कर दो ! 
तुम मुझे 'बंधनों'  के 
प्यार से ,,
मुक्त कर दो !    


नोट: कल रात पीड़ा के क्षणों में की गयी प्रार्थना जो शब्द रूप में बह निकली,,,

No comments: