Tuesday, November 27, 2012

क्योंकि तुम महान हो....



देते रहो तुम इन्तेहाँ क्योंकि तुम महान हो...
हो जाओ तुम कुर्बान क्योंकि तुम महान हो..

हमारा काम है चोरी, सो तो हम करते ही रहेंगे..
तुम चलो सच के रस्ते, क्योंकि तूम महान हो..

ये भी सुनो, तुम्हें कभी चैन से जीने  नहीं देंगे....
हर  बार हमें माफ़ करना, क्योंकि तुम महान हो..

न जाने दुनिया हमको किस रूप में याद करेगी..
तेरा नाम होगा हर जगह, क्योंकि तुम महान हो..



No comments: