Friday, January 6, 2012

प्यार hai ya kuchh aur..


जब तक कोई हमसे नाराज नहीं होता. 
हमें उसके प्यार का एतबार नहीं होता.....

रूठ के जब वो हमसे  दूर जाने को होता है ....
उसकी जुदाई के  ख्याल  से भी दिल सहम जाता है  ..

हम भटकते रहते  हैं उनकी तलाश  में दर- बदर.......
मिलने पे फिर भी , लवो से इकरार नहीं होता....

दोस्त अक्सर कहते हैं, भाई सौरभ......
किसी को यूँ ही , कभी प्यार नहीं होता....

No comments: